Membership Campaign

Here is an important communique stressing the need for the business community to get united under the umbrella of Bhartiya Udyog Vyapar Mandal and fight against the one-sided laws and policies which are mostly in favour of big corporates and MNCs.  With this need in view, a special Membership Campaign has been kick-started at national level. 

Please go through this letter addressed to you by the All India General Secretary Shri Vijay Prakash Jain.  Also enclosed with the letter are Membership forms for your use.

The institutional membership fee is Rs. 4,500/- whereas for individuals and firms, it is Rs. 2,500/- only.  The membership is granted for a period of 3 years for institutions as well as individuals and firms.

The strength of BUVM lies in the combined strength of its members.  More active and enthusiastic you are, stronger your Vyapar Mandal becomes.  So, act NOW! Let's join our hands together. Motivate more and more people to be a part of Bhartiya Udyog Vyapar Mandal.  

प्रिय साथियों, 

इस पोस्ट के साथ एक महत्वपूर्ण पत्र आपकी सेवा में संलग्न किया जा रहा है जो भारतीय उद्योग व्यापार मंडल से राष्ट्रीय महामंत्री श्री विजय प्रकाश जैन ने आपको संबोधित किया है।  जैसा कि आप जानते ही हैं कि छोटे - छोटे व्यापारी और उद्यमी संख्या बल में कहीं अधिक होते हुए भी हमारी सरकार की प्राथमिकताओं में नहीं हैं क्योंकि बड़े - बड़े कार्पोरेट घराने व बहुराष्ट्रीय संस्थान अपनी संगठन शक्ति व आर्थिक क्षमता के बल पर  हमारी सरकारों के निर्णयों को अपने पक्ष में मोड़ने में सफल हो जाते हैं और छोटे व्यापारियों व उद्यमियों की बिखरी हुई शक्ति व आवाज़ नकार दी जाती है।  

इस स्थिति को देखते हुए भारतीय उद्योग व्यापार मंडल ने राष्ट्रीय स्तर पर व्यापारियों को एक बैनर तले लाने हेतु सदस्यता का एक विराट्‌ अभियान छेड़ा है।  आपसे अनुरोध है कि आप अधिक से अधिक संख्या में औद्योगिक / व्यापारिक संगठनों को व व्यापारियों को प्रेरित करें कि वह भारतीय उद्योग व्यापार मंडल से जुड़ें ताकि हम सब की समवेत आवाज़ इतनी शक्तिशाली हो जाये कि किसी भी सरकार के लिये उसे अनदेखा करना असंभव हो जाये।

इस पत्र के साथ में सदस्यता फार्म भी संलग्न हैं।  औद्योगिक संगठनों के लिये 3 वर्ष हेतु सदस्यता शुल्क Rs. 4,500/- है जबकि व्यक्तियों व व्यापारिक / औद्योगिक फर्मों के लिये 3 वर्ष का सदस्यता शुल्क रु. 2,500/- मात्र रखा गया है।   कृपया इस बारे में उत्साह के साथ कार्य करते हुए अपने क्षेत्र से अधिक से अधिक सदस्य बनाने हेतु जुट जायें। हम सब सामूहिक प्रयास करेंगे तो विजय हमारी ही होगी, यह निश्चित है।